Jansankhya Kise Kahate Hain

Jansankhya Kise Kahate Hain

Jansankhya Kise Kahate Hain: हेलो स्टूडेंट्स, आज हमने यहां पर जलमंडल की परिभाषा, प्रकार और उदाहरण के बारे में विस्तार से बताया है।Jansankhya Kise Kahate Hain यह हर कक्षा की परीक्षा में पूछा जाने वाले यह एक महत्वपूर्ण प्रश्न है।

Jansankhya Kise Kahate Hain

जनसंख्या आमतौर पर एक ही क्षेत्र में लोगों की संख्या को संदर्भित करती है चाहे वह शहर, क्षेत्र, देश या दुनिया हो। सरकारें आम तौर पर एक जनगणना  की प्रक्रिया द्वारा अपने अधिकार क्षेत्र में निवासी आबादी के आकार को मापती हैं।

भारत की वर्तमान जनसंख्या लगभग 135 करोड़ है। कुछ रिपोर्टों के अनुसार, अगले कुछ वर्षों में, भारत में जनसंख्या में ठोस वृद्धि होगी, और वैश्विक भी।

जनसंख्या किसी शहर या देश में रहने वाले मनुष्यों की कुल संख्या हैJansankhya Kise Kahate Hain। यह जानने की अनुमति देता है कि इस आबादी को पूरा करने के लिए कितने संसाधनों की आवश्यकता है और अन्य योजनाओं की आवश्यकता है। साल दर साल जनसंख्या का विस्फोट हुआ है, जिससे देश में रहने वाले प्रत्येक व्यक्ति को संसाधन उपलब्ध कराना मुश्किल हो रहा है।

कम साक्षरता, कम उम्र में शादी और परिवार की वृद्धि की मांग जनसंख्या के विस्फोट के कुछ कारण हैं। भारत जनसंख्या विस्फोट का प्राथमिक आधार है। यह दुनिया की 17% आबादी को कवर करता है और सबसे अधिक आबादी वाला देश है।

इसे भी पढ़े: Boli Kise Kahate Hain

जनसंख्या वृद्धि के कारण

जनसंख्या वृद्धि के अनेक कारण हैं। कम साक्षरता दर इस विस्फोट का एक कारण Jansankhya Kise Kahate Hainहै। उदाहरण के लिए, भारत में, कई राज्यों में साक्षरता दर अपेक्षाकृत कम है। गांव में रहने वाले बहुत से लोग शिक्षा पूरी करने में असफल होते हैं और जन्म नियंत्रण के बारे में कम जानकारी रखते हैं। वे अपने परिवार का विस्तार करते रहते हैं।

इसके अलावा, वे जन्म नियंत्रण तकनीकों या दवा के बारे में ज्यादा जानकारी नहीं रखते हैं। समझ की यह कमी आगे जनसंख्या विस्फोट की ओर ले जाती है।

जनसंख्या वृद्धि के पीछे एक अन्य प्राथमिक कारण बाल विवाह है। देश के कई हिस्सों में आज भी बाल विवाह की प्रथा का पालन किया जाता है। माता-पिता अपनी बेटी की कम उम्र में शादी कर देते हैं और कम उम्र में ये लड़कियां गर्भवती हो जाती हैंJansankhya Kise Kahate Hain। यह प्रक्रिया लंबे समय तक चलती रहती है।

अध्ययन की दृष्टि से भारत में जनसंख्या वृद्धि के कारण हैं :-

  • जन्म-दर
  • मृत्यु दर
  • प्रवास
  • जीवन प्रत्याशा
  • विवाह एवं सन्तान प्राप्ति की अनिवार्यता
  • अशिक्षा एवं अज्ञानता
  • बाल विवाह
  • अंधविश्वास
  • लडके की चाह मे लडकियाँ पैदा करना

भारत में जनसंख्या वृद्धि के अन्य कारण

जन्म-दर

किसी देश में एक वर्ष में जनसंख्या के प्रति हजार व्यक्तियों में जन्म लेने वाले जीवित बच्चों की संख्या ‘जन्म-दर’ कहलाती है। जन्म-दर अधिक होने पर जनसंख्या वृद्धि भी अधिक होती है, भारत में जन्म-दर बहुत अधिक है। सन् 1911 में जन्म-दर 49.2 व्यक्ति प्रति हजार थी, लेकिन मृत्यु-दर भी 42.6 व्यक्ति प्रति हजार होने के कारण वृद्धि दर कम थी। उच्च जन्म-दर के कारण वृद्धि दर मन्द थी।

सन् 1971 की जनगणना में जन्म-दर में मामूली कमी 41.2 व्यक्ति प्रति हजार हुई, लेकिन मृत्यु-दर 42.6 व्यक्ति प्रति हजार से घटकर 19.0 रह गयी इसलिए वृद्धि दर बढ़कर 22.2 प्रतिशत हो गई।

इसे भी पढ़े: koshika kise kahate hain – कोशिका की परिभाषा, प्रकार और उदाहरण

मृत्यु दर

किसी देश में जनसंख्या के प्रति हजार व्यक्तियों पर एक वर्ष में मरने वाले व्यक्तियों की संख्या को मृत्यु दर कहतें हैंJansankhya Kise Kahate Hain। किसी देश की मृत्यु दर जितनी ऊॅंची होगी जनसंख्या वृद्धि दर उतनी ही नीची होगी। भारत में सन् 1921 की जनगणना के अनुसार मृत्यु दर में 47.2 प्रति हजार थी, जो सन् 1981-91 के दशक में घटकर 11.7 प्रति हजार रह गयी अर्थात् मृत्यु दर में 35.5 प्रति हजार की कमी आयी।

अत: मृत्यु दर नीची हुई तो जनसंख्या दर ऊॅंची हुई। मृत्यु दर में निरन्तर कमी से भारत में वृद्धों का अनुपात अधिक होगा, जनसंख्या पर अधिक भार बढ़ेगा। जन्म दर तथा मृत्यु दर के अन्तर को प्राकृतिक वृद्धि दर कहा जाता है। मृत्यु दर में कमी के फलस्वरूप जनसंख्या में वृद्धि हो जाती है।

इस वृद्धि के पीछे एक कारण यह है कि अन्य देशों के विपरीत भारत में सख्त कानून नहीं हैं। इससे नागरिकों के लिए संसाधनों का समान हिस्सा प्राप्त करना भी कठिन हो जाता है।

जनसंख्या विस्फोट का प्रभाव

जनसंख्या विस्फोट से न केवल देश के नागरिकों को बल्कि प्रकृति को भी नुकसान होता है। जनसंख्या में वृद्धि का अर्थ है रहने के लिए अधिक स्थान की आवश्यकता, जिसके परिणामस्वरूप वनों की कटाई होती है। कई शहरों ने इसे शहरी जीवन से भरने के लिए ग्रीन ज़ोन खो दिया है।

जनसंख्या वृद्धि भी औद्योगीकरण की मांग करती है, जो सभी क्षेत्रों में प्रदूषण को आमंत्रित करती हैJansankhya Kise Kahate Hain। भारत जैसा देश अब प्रदूषण और ग्लोबल वार्मिंग की भारी समस्या का सामना कर रहा है।

इसे भी पढ़े: Parimey Sankhya Kise Kahate Hain

जनसंख्या नियंत्रित

जनसंख्या को नियंत्रित करने का एक तरीका लोगों को देश के संसाधनों पर इसके बुरे प्रभावों के बारे में शिक्षित करना Jansankhya Kise Kahate Hainहै। सरकार, गैर सरकारी संगठनों के साथ, लोगों को जनसंख्या नियंत्रण के बारे में सूचित करने के लिए देश के हर ग्रामीण क्षेत्र का दौरा करने की आवश्यकता है।

जन्म नियंत्रण किट, बच्चों को शिक्षा और जन्म को प्रतिबंधित करने में सफल परिवारों को मौद्रिक लाभ प्रदान करना जरूरतमंदों को कर सकता है।

आर्टिकल में अपने पढ़ा कि जनसंख्या  किसे कहते हैं, हमे उम्मीद है कि ऊपर दी गयी जानकारी आपको आवश्य पसंद आई होगी। इसी तरह की जानकारी अपने दोस्तों के साथ ज़रूर शेयर करे ।

Leave a Comment

Your email address will not be published.