Physics Kise Kahate Hain

Physics Kise Kahate Hain

Physics Kise Kahate Hain: हेलो स्टूडेंट्स, आज हमने यहां पर फिजिक्स की परिभाषा, प्रकार और उदाहरण के बारे में विस्तार से बताया है।Physics Kise Kahate Hain यह हर कक्षा की परीक्षा में पूछा जाने वाले यह एक महत्वपूर्ण प्रश्न है।

Physics Kise Kahate Hain

जिन लोगों को गणित बहुत पसंद होता है उन्हें भौतिक शास्त्र पढ़ना भी बहुत पसंद होता है. अगर आपको नहीं मालूम कि भौतिक शास्त्र यानी कि फिजिक्स क्या है (Physics Kise Kahate Hain) और इसका क्या महत्व है तो आपको इस विषय के बारे में जरूर जानना चाहिए. क्योंकि यह विज्ञान के अंतर्गत आने वाला एक बहुत ही प्रमुख विषय हैं!

फिजिक्स विज्ञान की वह शाखा है जिसमें सामान्य तौर पर यूनिवर्स में हो रहे प्राकृतिक घटनाओं का विश्लेषण किया जाता हैPhysics Kise Kahate Hain और इन घटनाओं को समझा जाता है. भौतिक विज्ञान यानी फिजिक्स पदार्थ और उर्जा का अध्ययन करने वाला विज्ञान है और यह बहुत ही पुराना और फैला हुआ स्टडी का क्षेत्र है. अधिकतर लोग फिजिक्स शब्द सुनते हैं और डर जाते हैं. लेकिन यह सिर्फ रॉकेट वैज्ञानिकों के लिए नहीं है.Physics Kise Kahate Hain वास्तव में हर कोई  इस से घिरे हुए होते हैं. भले ही आप इसे महसूस ना करते हो आप हर दिन इस का उपयोग करते हैं.

इसे भी पढ़े:Udyog Kise Kahate Hain – उद्योग किसे कहते हैं? उद्योग के प्रकार

फिजिक्स क्या है और इसकी परिभाषा क्या है?

जब आप भौतिकी के बारे में सोचते हैं तो एक बात समझ में आती है कि इसके कई साइंटिफिक नियम है जो कि बार-बार टेस्ट की गई हैPhysics Kise Kahate Hain और कंफर्म किया गया है और इन स्टेटमेंट का डिस्क्राइब करने के लिए फिनोमेना बनाए गए हैंPhysics Kise Kahate Hain. फिजिकल फिनोमिना रियालिटी में भौतिकी का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है.

इसके विज्ञानी इन नियमों को बनाने और हमारे यूनिवर्स के काम करने के तरीके के बारे में बताते हुए कभी-कभी एक्सपेरिमेंट को दोहराते हैं. इन कानूनों जैसे गुरुत्वाकर्षण और न्यूटन के गति के नियम इतना अच्छी तरह से टेस्ट किया जाता हैPhysics Kise Kahate Hain की उन्हें सत्य के रूप में स्वीकार किया जाता हैPhysics Kise Kahate Hain और उनका उपयोग हमें यह भविष्यवाणी करने में मदद करने के लिए किया जा सकता है कि अन्य चीजें कैसे बिहेव करेंगे.

भौतिकी (Physics) शब्द ग्रीक भाषा फ्यूसिका (Phusika) से लिया गया है जिसका अर्थ हैPhysics Kise Kahate Hain प्रक्रति. इसमें प्रक्रति और दर्शनों का अध्ययन किया जाता है. परन्तु भौतिकी की आधुनिक परिभाषा में उर्जा और पदार्थ ओर उनके बीच के संबंधों का अध्यन किया जाता है. आपको बता दें कि न्यूटन और आइंस्टाइन को भौतिकी का जनक माना जाता है. आइये इस लेख में भौतिकी की प्रमुख शाखाओं की सूची के बारे में अध्ययन करें.

भौतिकी को मुख्य दो भागों में बांटा गया है:

1. चिरसम्मत भौतिकी (Classical Physics)

2. आधुनिक भौतिकी (Modern Physics)

1. चिरसम्मत भौतिकी (Classical Physics)

1900 ई. तक की भौतिकी को चिरसम्मत भौतिकी माना जाता हैPhysics Kise Kahate Hain. इसकी प्रमुख उपशाखाएं इस प्रकार हैं:

A. यान्त्रिकी (Mechanics): इसमें द्रव्य के गुणों तथा प्रकाश की अपेक्षा निम्न चाल से चलने वाली वस्तुओं की गति का अध्ययन किया जाता है.

B. प्रकाशिकी (Optics): इसमें प्रकाश तथा इसके उत्पादनPhysics Kise Kahate Hain, संचरण एवं संसूचन (detection) से सम्बंधित सभी घटनाओं का अध्ययन किया जाता है.

C. ध्वनि एवं तरंग गति (Sound and Wave motion): इसके अंतर्गत तरंग गति एवं ध्वनि का उत्पादन तथा संचरण का अध्ययन किया जाता है.

D. ऊष्मा एवं ऊष्मागतिकी (Heat and Thermodynamics): इस शाखा में ऊष्मा की प्रक्रति, उसका संचरण एवं उसके कार्य में परिवर्तन का अध्ययन किया जाता है.

E. विद्युत-चुम्बकत्व (Electromagnetism):  इसमें विद्युत, चुम्बकत्व एवं विद्युत-चुम्बकीय विकिरण का अध्ययन किया जाता है.

इसे भी पढ़े:Upgrah Kise Kahate Hain

2. आधुनिक भौतिकी (Modern Physics): इसमें मुख्यत: बीसवीं शताब्दी की भौतिकी का अध्ययन किया जाता हैPhysics Kise Kahate Hain. इसकी प्रमुख उपशाखाएं इस प्रकार हैं:

A. परमाणु भौतिकी (Modern Physics): इसमें परमाणु की संरचना एवं विकिरण के साथ उसकी अन्योन्यक्रियाओं (interactions) का अध्ययन किया जाता है.

B. नाभिकीय भौतिकी (Nuclear Physics): इसमें नाभिक की संरचना एवं नाभिकीय कणों की अन्योन्यक्रियाओं (interactions) का अध्ययन किया जाता है.

C. क्वांटम यान्त्रिकी (Quantum Physics): यह एक विशेष प्रकार की यान्त्रिकी है जिसमें अणुओंPhysics Kise Kahate Hain, परमाणुओं और नाभिकीय कणों के व्यवहार का वर्णन किया जाता है.

D. आपेक्षिकता का सिद्धांत (Theory of Relativity): 1905 में आइंस्टाइन ने आपेक्षिकता का विशिष्ट (special) सिद्धांत प्रतिपादित किया जिसमें उन नियमों का वर्णन है जो बहुत ही उच्च वेग से चलने वाले कणों की गति पर लागू होते हैंPhysics Kise Kahate Hain. बाद में 1915 में आइंस्टाइन ने आपेक्षिकता का व्यापक (general) सिद्धांत प्रस्तुत किया जिसमें गुरुत्वाकर्षण की व्याख्या की गई.

इस आर्टिकल में अपने पढ़ा कि,  भौतिकी किसे कहते हैं। हमे उम्मीद है कि उपर दी गयी जानकारी आपको आवश्य पसंद आई होगी। इसी तरह की जानकारी अपने दोस्तों के साथ ज़रूर शेयर करे ।

Leave a Comment

Your email address will not be published.