Sarvnam Kise Kahate Hain

Sarvnam Kise Kahate Hain

Sarvnam Kise Kahate Hain: हेलो स्टूडेंट्स, आज हमने यहां पर सर्वनाम की परिभाषा, प्रकार और उदाहरण ( Sarvnam in hindi) के बारे में विस्तार से बताया है। यह हर कक्षा की परीक्षा में पूछा जाने वाले यह एक महत्वपूर्ण प्रश्न है।

Sarvnam Kise Kahate Hain

सर्वनाम का शाब्दिक अर्थ है-सबका नाम। अर्थात किसी संज्ञा के बारे में बोलने या बुलाने के लिए संज्ञा के स्थान पर प्रयुक्त होने वाले शब्द सर्वनाम कहलाते हैं।

जैसे-हम, तुम, मैं आदि।

जब हम किसी संज्ञा के बारे में लिखते या बोलते समय संज्ञा की पुनरुक्ति करते हैं, तो वाक्यांश लिखने या बोलने में भद्दा लगता है, इसलिए संज्ञा के स्थान पर सर्वनाम का प्रयोग किया जाता है, ताकि पुनरुक्ति से बचा जा सके और वाक्य शुद्ध और सटिक हो। जैसे-

  • राम एक अच्छा लड़का है। – राम एक अच्छा लड़का है।
  • राम प्रतिदिन स्नान करता है। – वह प्रतिदिन स्नान करता है।
  • राम को मंदिर जाना पसंद है। – उसे मंदिर जाना पसंद है।
  • राम के पिताजी भी उसके साथ जाते हैं। – उसके पिताजी भी उसके साथ जाते हैं।

सर्वनाम की परिभाषा Sarvanam ki paribhasha

  जो शब्द संज्ञा के स्थान पर प्रयोग किया जाता है उसे सर्वनाम कहते हैं।

अर्थात

सर्वनाम उस विकारी शब्द को कहते हैं जो शब्द संबंध से किसी संज्ञा बदले बोले या लिखे जाते हैं सर्वनाम कहलाते हैं।

अर्थात

नाम के स्थान पर प्रयोग किए गए शब्द सर्वनाम कहलाते हैं sarvanam का अर्थ सबके लिए नाम से है 

जैसे-मै,तू,आप,कौन,कैसे आदि।

सर्वनाम के भेद

हिंदी व्याकरण में सर्वनाम के छः भेद होते हैं, जो निम्नलिखित हैं-

  1. पुरुषवाचक सर्वनाम
  2. निश्चयवाचक सर्वनाम
  3. अनिश्चयवाचक सर्वनाम
  4. सम्बन्धवाचक सर्वनाम
  5. प्रश्नवाचक सर्वनाम
  6. निजवाचक सर्वनाम

1. पुरुषवाचक सर्वनाम किसे कहते हैं?

जिन सर्वनाम शब्दों का प्रयोग वक्ता द्वारा ख़ुद के लिए या दुसरो के लिए किया जाता है, उसे पुरुषवाचक सर्वनाम कहते हैं।  यह तीन प्रकार के होते हैं।

उत्तम पुरुष-मैं, हम, मैंने, हमने, मेरा, हमारा, मुझे, मुझको

मध्यम पुरुष-तू, तुम, तुमने, तुझे। तूने, तुम्हें, तुमको। तुमसे, आपने, आपको

अन्य पुरुष-वह, यह, वे, ये। इन, उन, उनको, उनसे, इन्हें, उन्हें, इससे, उसको

2. निश्चयवाचक सर्वनाम किसे कहते हैं?

जिन शब्दों से निकट या दूर के व्यक्तियों या वस्तुओं का निश्चयात्मक संकेत व्यक्त होता है, उन्हें निश्चयवाचक सर्वनाम कहते हैं।

जैसे-यह, वह, ये, वे

  • यह मेरा घर है।
  • वह राम की पस्तक है।
  • ये मेरे खिलौनें हैं।
  • वे बकरियाँ हैं।

3. अनिश्चयवाचक सर्वनाम किसे कहते हैं?

जिन सर्वनाम शब्द से किसी निश्चित वस्तु का बोध नहीं होता है, उन्हें अनिश्चयवाचक सर्वनाम कहते हैं। जैसे-कोई, कुछ आदि

  • कुछ लोग आये हुए थे।
  • कोई भी नहीं आएगा।

4. संबंधवाचक सर्वनाम किसे कहते हैं?

जिस सर्वनाम से किसी दूसरे सर्वनाम से सम्बंध स्थापित किया जाय, उसे सम्बंधवाचक सर्वनाम कहते हैं। जैसे –जैसा-वैसा, जो-सो

  • जैसे-जैसे लोग आते गए,  वैसे-वैसे भीड़ बढती गयी।
  • जो आया है, सो जायेगा यह ध्रुव सत्य है।

5. प्रश्नवाचक सर्वनाम किसे कहते हैं?

प्रश्न करने के लिए प्रयुक्त होने वाले सर्वनाम शब्दों को प्रश्नवाचक सर्वनाम कहा जाता है। जैसे-कौन, क्या, कब, कहाँ

  • रसोड़े में कौन था?
  • क्या आज मंगलवार है?
  • अगली छुट्टी कब होगी?
  • इस बार तुम घुमने के लिए कहाँ जाओगे?

6. निजवाचक सर्वनाम किसे कहते हैं?

‘स्वयं’ अर्थात ‘खुद’ के लिए प्रयुक्त होने वाले सर्वनाम निजवाचक सर्वनाम कहलाते हैं। जैसे-स्वयं, आप, स्वतः

  • यह कार्य मैं स्वयं कर लूँगा।
  • मै अपने आप चला जाऊंगा।
Credit: M.S SSC NOTES for all.

इसे भी पढ़े:

सर्वनाम के प्रयोग के संबंध में कुछ स्मरण रखने योग्य बातें

  1. संबोधित करने में सर्वनाम का विकार नहीं होता है।
  2. हम का प्रयोग एकवचन में भी होता है।बहुवचन के रूप में हमलोग का प्रयोग किया जाता है।
  3. यह, वह, वे, ये सर्वनामों के आगे विशेष्य (संज्ञा) का प्रयोग होने से ये विशेषण हो जाते हैं। जैसे-यह लड़का, वह शिक्षक, वे बच्चे ,वह देश आदि।
  4. सर्वनाम संज्ञा के स्थान पर आते हैं,अतः उनके प्रयोग में भी संज्ञा की तरह कारक और उसके अनुसार रूप का विचार करना पड़ता है।संज्ञा की भांति सर्वनाम में भी कार्य के कारण विकार या परिवर्तन होता है।

Leave a Comment

Your email address will not be published.